भगवान राम को अयोध्या लेने चित्रकूट पहुंचे भरत, राम ने कुल वचन परंपरा की दिलाई भरत का याद

 भगवान राम को अयोध्या लेने चित्रकूट पहुंचे भरत, राम ने कुल वचन परंपरा की दिलाई भरत का याद
bagoriya advt
WhatsApp Image 2022-07-27 at 10.18.54 AM

चमोली : संयुक्त रामलीला मंच व व्यापार संघ गोपेश्वर के संयुक्त तत्वावधान में आयेजित रामलीला में 6वें दिन सोमवार को भरत मिलाप की लीला का मंचन किया गया। सोमवार लीला का शुभारंभ नेत्र चिकित्सक डा. किशोर कठैत, डा. यदुनंदन भट्ट व व्यवसायी मदन लाल आर्य ने किया। लीला के दौरान यहां लोकगायक वीके सांवत की ओर से कुमांऊनी लोकगीतों की भी शानदार प्रस्तुति दी गई।
गोपेश्वर में आयोजित लीला में सोमवार को प्रथम दृष्य में राजा दशरथ ने पुत्र वियोग में प्राण त्याग दिये। जिसकी सूचना मिलने पर ननिहाल गये भरत और शत्रुघन के लौटने पर उन्हें भगवान राम, माता जानकी और भ्राता लक्ष्मण के वन गमन की जानकारी मिली। जिसे पर क्रोधित भरत द्वारा माता कैकई को खरी-खरी सुनाई गई। वहीं इस पूरे प्रकरण के मूल में मंथरा के षडयंत्र की जानकारी होने पर शत्रुघन ने क्रोधित होकर मंथरा को लात मारकर महल से निकाल दिया। जिसके बाद भरत तीनों माताओं, गुरुआेंं और प्रजा के साथ भगवान राम से मिलने चित्रकूट पहुंचे। जहां भगवान राम ने उन्हें पिता के वचन और राजा के धर्म की बात कहकर लौटने की बात कही। जिस पर भरत भगवान राम के खडाव लेकर अयोध्या लौटे। इस दौरान प्रथम बार लीला में राजा दशरथ को श्रवण कुमार के माता-पिता के श्राप की याद आने पर श्रवण कुमार की लीला के दृष्य का भी मंचन किया गया। जिसे दर्शकों की ओर से खूब सराहा गया। इस मौके प्रांतीय उद्योग व्यापार मंडल के प्रदेश महामंत्री प्रकाश मिश्रा, पपेंद्र रावत, राकेश आर्य, सुनील चौहान, महेंद्र सिंह राणा, कमल राणा, राकेश मैठाणी, प्रकाश सिंह, जगमोहन सिंह, अंकित कुमार, अमित मिश्रा, रेखा राणा, माया नेगी आदि मौजूद थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Share
error: Content is protected !!